चुनाव से पहले बढ़ी भाजपा की मुश्किलें, परिवारवाद में अटकी उम्मीदवारों की लिस्ट

0
51

भोपाल: MP विधान सभा चुनाव की तारीख नजदीक आ रही है। लेकिन न तो सत्तारूढ़ भाजपा और न ही मुख्य विपक्षी कांग्रेस ने अभी तक उम्मीदवारों का ऐलान किया है। दोनों ही दलों में उम्मीदवारों का चयन लगभग आखिरी चरण में है, लेकिन दिग्गज पार्टी नेताओं के पुत्रमोह और परिवारवाद की वजह से लिस्ट जारी नहीं हो पा रही है। वैसे तो भाजपा परिवारवाद का विरोध करती रही है और इस मसले पर कांग्रेस पर हमलावर रही है। लेकिन खुद पार्टी के करीब आधा दर्जन से ज्यादा दिग्गज नेता अपने बेटे-बेटियों या परिवार के दूसरे सदस्य के लिए टिकट की मांग कर रहे हैं।
ऐसे लोगों में लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन से लेकर भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय तक शामिल हैं। इनके अलावा शिवराज सिंह चौहान सरकार के कई मंत्री और कई सांसद भी अपने बेटों के लिए टिकट मांग रहे हैं।इंदौर से सांसद और लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने अपने बेटे मंदार के लिए इंदौर से एक सीट मांगी है। पार्टी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने भी अपने बेटे आकाश के लिए महू से विधान सभा का टिकट मांगा है। जानकारी के अनुसार संगठन आकाश को चुनावी रण में उतारना चाह रहा है।
राज्य के वित्त मंत्री जयंत मलैया भी अपने पुत्र सिद्धार्थ के लिए टिकट चाह रहे हैं। उन्होंने दमोह से बेटे के लिए टिकट की मांग की है। पार्टी भी उन्हें टिकट देने के पक्ष में है। राज्य के दूसरे मंत्री गौरीशंकर शेजवार भी सांची सीट से अपने बेटे मुदित के लिए टिकट मांग रहे हैं। तीसरे मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने बेटी मौसम के लिए टिकट मांगा है, लेकिन स्थानीय सांसद बोधसिंह भगत ने उसका जमकर विरोध किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here